Read in App

Daily Insider Desk
• Tue, 24 Jan 2023 7:02 pm IST


बेटी को मत समझो भार, ये तो हैं जीवन का आधार : शालिनी मिश्रा

  • राष्ट्रीय बालिका दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन

बरेली: सिद्धार्थ शिक्षा समिति के संजय नगर स्थित कार्यालय पर राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर छात्राओं का सम्मान समारोह आयोजित किया गया। सभी छात्राओं ने राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर मिलकर केक काटा। इस समारोह में संस्था की अध्यक्ष शालिनी मिश्रा ने कहा राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य समाज में लड़कियों के साथ हो रहे भेदभाव को समाप्त करना हैं। देश के कई राज्यों में बालिकाओ की स्थिति काफी दयनीय हैं। वहां पर लड़कियों को जन्म लेने से पहले ही मार दिया जाता हैं। इन सब कुप्रथाओ को रोकने के लिए ही राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जा रहा हैं, ताकि लोगो को जाग्रत करने का काम किया जा सके। उन्होंने कहा कि आज लड़कियां, किसी भी मामले में लड़को से कम नहीं हैं। आज की लड़कियां यक़ीनन लड़को से आगे निकल चुकी हैं। देश की बेटियां हर फील्ड में अपना परचम लहरा रही हैं। भारतीय समाज में आज से नहीं बल्कि काफी पहले से लैंगिक असमानता एक बड़ी चुनौती रही है। भारत सरकार ने महिलाओं के विरुद्ध भेदभाव की इस स्थिति को बदलने और सामाजिक स्तर पर लड़कियों की हालत में सुधार करने के उद्देश्य से कई महत्त्वपूर्ण कदम उठाए हैं। इसमें ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान, ‘सुकन्या समृद्धि योजना’, बालिकाओं के लिए मुफ्त या अनुदानित शिक्षा और कॉलेजों तथा विश्वविद्यालयों में सीटों का आरक्षण शामिल हैं। उन्होंने कहा सभी माता-पिता का पहला कर्त्तव्य हैं कि वो लड़कियों से किसी भी प्रकार का भेदभाव न करें। इस अवसर पर संस्था के उपाध्यक्ष सुमित मिश्रा ने कहा सस्था जल्द ही बालिकाओं के लिए फ्री समर कैंप का आयोजन किया जायेगा। इसमे लड़कियों को आत्म निर्भर बनाने के लिए कंप्यूटर, इंग्लिश स्पीकिंग एवं योगा कोर्स करवाये जाएंगे। इस अवसर पर संस्था के महामंत्री हिमांशु पांडेय, उपाध्यक्ष एडवोकेट सुरेश चंद्रा, संस्था की ट्रेनर महिमा, मुकीम,धीरज, ज्योति, दीक्षा, रिंकी, योगेश, रश्मि आदि उपस्थित थे।