Read in App

Daily Insider Desk
• Thu, 14 Jul 2022 4:58 pm IST

ब्रेकिंग

मजदूर और नौजवान की लड़ाई लड़ेगा रालोद: रामाशीष राय


राष्ट्रीय लोक दल ने चलाया सदस्यता अभियान

बरेली:  राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष पूर्व एमएलसी रामाशीष राय ने कहा कि रालोद किसान जवान की लड़ाई लड़ेगा । उत्तर प्रदेश और केन्द्र सरकार ने किसानों की आय दुगुनी करने और प्रतिवर्ष 2 करोड़ लोगों को रोजगार देने का वायदा किया था। किन्तु न किसान की आय दोगुनी हुई, और न ही नौजवानों को रोजगार मुहैया हो सका । बेरोजगारी और महगाई से लोग बेहाल है । आत्महत्या की घटनाएँ बढ़ रही है । कानून व्यवस्था की हालत नाजुक है.। 

अग्निवीर बनाने की योजना युवाओं के साथ एक भद्दा मजाक है । प्रधानमंत्री वन रैंक वन पेंशन का वायदा करके सत्ता में आये, परन्तु आज नो रैंक नो पेंशन की स्कीम सेना में लागू कर रहे हैं । प्रधानमंत्री के इस खेल से पीढ़ी दर पीढ़ी देश की सेवा करने वाले हमारे सैनिकों का मनोबल कमजोर हुआ है। देश के नौजवानों में निराशा एवं हताशा व्याप्त है । राष्ट्रीय लोकदल का मानना है कि सरकार की नीतियों के कारण देश में आर्थिक असमानता,गैर बराबरी और गरीबी बढ़ रही है । राजनीतिक और सामाजिक तानाबाना कारपोरेट राजनीति के कारण बिखर रहा है । 

राष्ट्रीय लोकदल सामाजिक न्याय और समता गमता भाईचारा समाज में स्थापित कर रहा है और इस सन्दर्भ में प्रदेशभर में अभियान चलाने का निर्णय लिया गया है । राष्ट्रीय लोकदल ने देश एवं प्रदेश में सदस्यता अभियान को हर बूथ तक पहुंचाने के लिए चौधरी चरण सिंह जयंती 23 दिसम्बर तक लाखो सदस्य बनाने का संकल्प लिया है । उत्तर प्रदेश में छुटटा जानवरों से किसान परेशान है । चुनाव में प्रधानमंत्री ने वायदा किया था कि 10 मार्च के बाद इस समस्या का समाधान हो जायेगा किन्तु अभी तक कोई कार्यवाही इस सन्दर्भ में धरातल पर नहीं दिखाई पड़ रही है । 

सरकार ने वायदा किया था कि गन्ना किसानों को उनका बकाया भुगतान 14 दिन के भीतर कर दिया जायेगा किन्तु गन्ना किसानों का बकाया करोड़ों रूपया गन्ना मिलें दबाये बैठी हैं जोकि अभी तक किसानों को नहीं मिला है । उन्होंने प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुये कहा कि प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है । पूरे प्रदेश में हत्या , लूट एवं बलात्कार की घटनाएं लगातार हो रही है लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है।