Read in App

Daily Insider Desk
• Sun, 17 Jul 2022 5:12 pm IST

ब्रेकिंग

Lulu Mall को लेकर विवाद बढ़ा, अब मॉल प्रशासन ने कर्मचारियों के धर्म पर दी सफाई

लखनऊ: सुशांत गोल्‍फ सिटी थाना अंतर्गत लुलु मॉल को लेकर बढ़ते विवाद को देखते हुए प्रबंधन ने पहली बार हिदू-मुस्लिम कर्मचारियों को लेकर लग रहे आरोपों पर सफाई दी है। कंपनी के रीजनल डायरेक्टर जयकुमार गंगाधर ने कहा कि हमारे यहां जितने भी कर्मी हैं, उनमें स्थानीय, प्रदेश और देश से हैं। उन्‍होंने कहा कि इनमें से 80 फीसदी से अधिक हिंदू कर्मचारी हैं, जबकि शेष में मुस्लिम, ईसाईं और अन्य वर्ग के लोग हैं।


इससे पूर्व आज करणी सेना के लगभग 12 पदाधिकारी तीन गाड़ियों से लुलु मॉल की ओर जा रहे थे। इनकी गाड़ियों पर बायकॉट लुलु मॉलके पोस्टर लगे हुए थे। इसकी जानकारी मिलते ही हजरतगंज और गोमतीनगर पुलिस ने 1090 चौराहे पर घेराबंदी करके सभी को रोक लिया। एडीसीपी हजरतगंज अखिलेश सिंह ने बताया कि ये लोग महानगर निवासी ध्रुव सिंह के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन करने मॉल की ओर जा रहे थे।

कार्यकर्ताओं की गाड़ियों से हटवाए गए पोस्‍टर  

उन्‍होंने बताया कि पुलिस ने करणी सेना के पदाधिकारियों की तीनों गाड़ियों को कब्जे में ले लिया है। 1090 चौराहे पर रोक-टोक के दौरान पुलिस और करणी सेना के लोगों के बीच झड़प भी हुई। फिर पुलिस ने गाड़ियां कब्जे में लेकर इन पर लगे पोस्टर हटवा दिए। साथ ही कार्यकर्ताओं को उनके ही घरों में नजरबंद कर दिया गया है। पुलिस का कहना है कि उनके इस तरह के विरोध प्रदर्शन से कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है।

कमिश्‍नर डीके ठाकुर ने लिया सुरक्षा व्‍यवस्‍थाओं का जायजा

इससे पूर्व लुलु मॉल के बढ़ते विवाद को देखते हुए लखनऊ कमिश्नर डीके ठाकुर पहुंचे। उन्‍होंने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। साथ ही अधिकारियों को सख्त निर्देश भी दिए। कमिश्नर डीके ठाकुर ने सुरक्षा व्‍यवस्‍था में तैनात अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मॉल की सुरक्षा व्यवस्था में कोई भी चूक नहीं होनी चाहिए। इस दौरान कमिश्नर के साथ आला अधिकारी भी मौजूद रहे।