Read in App

Daily Insider Desk
• Tue, 24 Jan 2023 9:16 pm IST


सुभाष चंद्र बोस नहीं भूलने वाले महान स्वतंत्रता सेनानी

  • देश भक्त, राष्ट्र नायक के साथ वह युवाओं के प्रेरणास्रोत थे : डाॅ. रजनीश सक्सेना

बरेली: पूर्व वर्षों के भांति इस वर्ष भी ऑल इण्डिया रियल फ़ॉर कल्चरल, ऐजूकेशनल, वेलफेयर सोसाइटी, मां गंगा बचाओ वेलफेयर सोसाइटी, महिला कल्याण समिति के संयुक्त तत्वावधान में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में संस्था मुख्यालय जीवन ज्योति कैम्पस, सिविल लाइन्स, बरेली के प्रांगण में श्री गंगा गौ, बेटी, पर्यावरण बचाओ-देश बचाओ के साथ रक्तदान महादान को प्रयासरत संस्थापक/राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ. रजनीश सक्सेना के नेतृत्व में विचार गोष्ठी एवं नेता जी सुभाष चंद्र बोस जयन्ती समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर समारोह का शुभारम्भ मुख्य अतिथि पूर्व आरएसएस प्रचारक डाॅ. दिनेश चंद्र शर्मा, संरक्षक सी.एल. शर्मा, कार्यक्रम संयोजक डाॅ. रजनीश सक्सेना, कार्यक्रम अध्यक्ष वरिष्ठ भाजपा नेता गुलशन आनन्द, मो. नवी ने नेता जी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा पर भव्य माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित कर किया। विचार गोष्ठी में एशियन नर्सिग काॅलेज की ओर से शिक्षिकाओं एवं छात्राओं ने प्रतिभाग किया। अपने वक्तव्यों में नेता जी को भारत का राष्ट्र कुल गौरव बताते हुए युवाओं के वास्तविक प्रेरणास्रोत बताया। मुख्य रुप से सुनयना स्पेंसर, शिखा जायसवाल, रागिनी शर्मा, बबिता, शीतल को उनके विचारों के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम संयोजक डाॅ. रजनीश सक्सेना ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारत के सबसे महत्वपूर्ण ख्याति प्राप्त स्वतंत्रता सेनानी, देश भक्त, राष्ट्रनायक के साथ युवाओं के सच्चे प्रेरणास्रोत थे। स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के दौरान उन्होंने भारतीय सेना आजाद हिन्द फोज की स्थापना की और अग्रणी द्वारा नेता जी की उपाधि अर्जित की। उनकी देश भक्ति सेवाभाव में धर्म भेद एवं भेदभाव नहीं था। तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा उनका यह नारा युवाओं के लिए मील का पत्थर साबित हुआ। यह भाषण रंगून के जुगनी हाॅल में दिया गया था। उनका वह भाषण इतिहास के पन्नों में अंकित हो गया। नेता जी ने कहा था कि स्वतंत्रता बलिदान चाहती है। हमने अपनी आजादी के लिए बहुत त्याग दिये हैं। पर, अभी प्राणों की आहूति देना शेष है। वर्तमान युवा पीढ़ी को उनके पदचिन्हों पर चलना चाहिए। वक्ताओ में डाॅ. डी.सी. शर्मा, मो. नवी, डाॅ. वी.के. सिंह, कनिष्क शर्मा, संतोष उपाध्याय, मनीष रस्तोगी, डाॅ. राम कुमार आर्य, सुनील अग्रवाल, आकाश पुष्कर, सचिन श्याम भारतीय, राम मोहन शर्मा, डिम्पल मैंहदीरत्ता, हरजीत कौर, त्रिलोचन सिंह, चन्द्रभान सिंह रत्नाकर, अशोक कुमार, धीरज कुमार, रवि सक्सेना, सौरभ सक्सेना, आरती सक्सेना आदि लोग ने युवाओं सें नेता जी के पदचिन्हों पर चलने की अपील की। इस अवसर पर पूर्व की भांति संस्था परिवार के द्वारा उपस्थित जनों को श्री गंगा गौ, बेटी, पर्यावरण बचाओ-देश बचाओ के साथ रक्तदान महादान की शपथ दिलाई गयी। संचालन राष्ट्रीय समन्वयक संतोष उपाध्याय एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मनीष रस्तोगी ने किया ।