Read in App

Daily Insider Desk
• Thu, 14 Jul 2022 3:05 pm IST


एचसीएल के जनक भारतीय अरबपति उद्योगपति शिव नादर मना रहे 77वां जन्मदिन, जानिए उनके सफलता के पीछे का राज...

भारतीय अरबपति उद्योगपति और परोपकारी शिव नादर भारत के खुद के प्रयास से अरबों की संपत्ति संजोयी है। शिव नादर वैश्विक आईटी सेवा कंपनी एचसीएल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड के पूर्व अध्यक्ष और सह-संस्थापक हैं। 

नादर की कंपनी को भारत का पहला स्वदेशी पीसी बनाने का श्रेय दिया जा चुका है। 14 जुलाई 2022 को यानि आज शिव नादर अपना 77वां जन्मदिन मना रहे हैं। तमिलनाडु के एक छोटे से गांव में शिवसुब्रमण्यम नादर और वामासुंदरी देवी के यहां शिव का जन्म हुआ। उन्होंने अमेरिकन कॉलेज, मदुरै से प्री-यूनिवर्सिटी की डिग्री हासिल की। और फिर पीएसजी कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी से इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में स्नातक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद उन्होंने 1967 में वालचंद ग्रुप के कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग पुणे में काम करना शुरू किया। और बाद में कूपर इंजीनियरिंग कंपनी में काम किया। और भारत की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी दिल्ली क्लॉथ मिल्स में उन्होंने नौकरी हासिल की। 

कंपनी में हरदिन 10 से 12 घंटे काम करने के बाद हर महीने की सैलरी मिलने पर नादर को एहसास हुआ कि, उन्हें अपना कुछ करना है। वह और उनके कुछ सहयोगी जो डीसीएम के कैलकुलेटर डिवीजन में काम करते थे। उनके साथ जुड़ गए और उन सभी ने अपनी खुद की कंपनी शुरू करने का फैसला किया। 

इसके बाद 1975 में, शिव नादर ने अपने दोस्तों और सहयोगियों के साथ माइक्रोकॉम्प लिमिटेड की शुरुआत की। एक साल बाद, नादर को लगा कि, भारत में कंप्यूटर निर्माण में बड़ा गैप है।  क्योंकि आईबीएम पॉलिटिकल इश्यूज की वजह से भारत से अपना बोरिया-बिस्तर समेट रहा है। इसके बाद  18,700 रुपये के शुरुआती निवेश के साथ उन्होंने हिंदुस्तान कंप्यूटर लिमिटेड की स्थापना की।

और तकनीकी क्रांति के उनके दृष्टिकोण को देकर यूपी सरकार ने उन्हें मान्यता दी। और इसने उन्हें कंपनी में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी के बदले में अतिरिक्त 20 लाख रुपये दिए। और देखते ही देखते एचसीएल पहली सार्वजनिक-निजी भागीदारी में से एक बन गई। 1978 में, HCL ने IBM और Apple से पहले भारत में पहला PC प्रस्तुत किया. इसे एचसीएल 8सी कहा जाता था। इसके अलावा, भविष्य की आहट पाकर आईटी क्षेत्र में आने वाले उछाल को भांपते हुए, 1979 में, एचसीएल को सिंगापुर में सुदूर कंप्यूटर स्थापित करने का अवसर मिला। 

उस समय एचसीएल की कीमत 3 करोड़ रुपये थी। और वह अपने पहले साल में 10 लाख रुपये की बिक्री हासिल करने में सफल रही। बाद में, एचसीएल ओवरसीज लिमिटेड को प्रौद्योगिकी विकास सेवाओं के प्रदाता के रूप में शामिल किया गया था। इसके बाद इसका नाम बदलकर एचसीएल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड कर दिया गया। 2020 में, शिव नादर ने एचसीएल में अपनी अध्यक्ष की भूमिका से इस्तीफा देकर बेटी रोशनी नादर को आईटी कंपनी की अध्यक्षता करने वाली पहली महिला बना दिया। 

मौजूदा समय में एचसीएल को आधुनिक कंप्यूटिंग का अग्रणी माना जाता है। कंपनी 50 देशों में 169,000 से अधिक पेशेवरों के संचालन के साथ 10 बिलियन अमरीकी डालर से ज्यादा का सालाना  राजस्व कमा रही है। उत्पन्न करती है।

2011 में, एचसीएल फाउंडेशन को एचसीएल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड की सामाजिक जिम्मेदारी शाखा के रूप में स्थापित किया। यह फाउंडेशन गरीबी को कम करने और स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यावरण और आपदा जोखिम में कमी और प्रतिक्रिया क्षेत्रों में समावेशी विकास प्राप्त करने पर केंद्रित है। 

शिव नादर ने एचसीएल की बेमिशाल सफलता के बाद 1981 में, NIIT की स्थापना की गई थी। 1996 में, उन्होंने तमिलनाडु में एसएसएन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग की स्थापना की। 2008 में, SSN ट्रस्ट ने ग्रामीण छात्रों के लिए उत्तर प्रदेश में दो स्कूल स्थापित किए। शिव नादर को ‘सबसे उदार भारतीय’ के रूप में मान्यता दी गई थी क्योंकि उन्होंने अपने 630 करोड़ रुपये के दान के लिए 2006 में हुरुन इंडिया परोपकार सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया था। 2011 में, उन्होंने नोएडा में शिव नादर विश्वविद्यालय की स्थापना की। 
2008 में, उन्हें आईटी क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 2017 में, उन्हें इंडिया टुडे पत्रिका ने भारत के 50 सबसे शक्तिशाली लोगों में नादर को 16 वां स्थान दिया था।
यह भी पढ़ें ...
एक किसान से एक सिपाही और फिर एक सहायक प्रोफेसर, अरविंद पेरुमल का सफर है संघर्षों भरा...
Daily Insider Desk • Mon, 14 Feb 2022 6:30 am IST
मिलिए आर प्रिया से, जो बनेंगी चेन्नई की पहली दलित और सबसे कम उम्र की महिला मेयर...
Daily Insider Desk • Fri, 4 Mar 2022 9:50 am IST
‘इनसाइक्लोौपीडिया ऑफ फॉरेस्ट ’ के नाम से जानी जाती हैं पद्मश्री सम्मानित तुलसी गौड़ा, जड़ी-बूटियों से है अनूठा प्यार
Daily Insider Desk • Mon, 29 Nov 2021 12:28 pm IST
12वीं में हुई थी फेल, लेकिन अपने प्रथम प्रयास में UPSC क्लियर कर बनी IAS ऑफिसर, पढ़ें अंजू शर्मा की कहानी
Daily Insider Desk • Thu, 28 Apr 2022 6:18 pm IST
तीसरे प्रयास में टॉपर बने शुभम कुमार, जिंदगी के उतार-चढ़ावों में नहीं मानी हार
Daily Insider Desk • Fri, 26 Nov 2021 2:58 pm IST
मिलिए पहले प्रयास में ही UPSC की परीक्षा में AIR 60 हालिस करने वाले दिव्यांशु सिंगल से
Daily Insider Desk • Wed, 9 Feb 2022 3:08 pm IST