मौलाना तौकीर रजा फिर कोर्ट में नहीं हुए पेश, घर पर कुर्की का नोटिस चस्पा

बरेली: आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा खां सोमवार को भी कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। बरेली दंगे के एक अन्य आरोपी वसीम ने अदालत में सरेंडर कर दिया। कोर्ट ने तौकीर रजा के मामले में सुनवाई के लिए अगली तारीख 20 अप्रैल तय की है। बता दें कि कोर्ट में हाजिर न होने पर मौलाना को फरार घोषित किया जा चुका है। उनके खिलाफ तीन गैरजमानती वारंट भी जारी हो चुके हैं।

एडीजे फास्ट ट्रैक रवि कुमार दिवाकर की कोर्ट ने कुछ दिन पहले मौलाना तौकीर रजा को बरेली के 2010 दंगे का मास्टरमाइंड बताते हुए गैर जमानती वारंट जारी किया था। बाद में मामला जिला जज की अदालत में स्थानांतरित हो गया था। हाईकोर्ट ने मौलाना को कोर्ट में हाजिर होने के निर्देश दिए थे, लेकिन वह हाजिर नहीं हुए तो पिछले दिनों कोर्ट ने मौलाना समेत चार आरोपियों के खिलाफ 82 की कार्रवाई की नोटिस जारी कर कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

इसी के तहत प्रेमनगर थाना पुलिस ने रविवार को कोर्ट में अपना गला बचाने के लिए कवायद कर ली। पुलिस ने मौलाना तौकीर रजा के सौदागरान स्थित आवास के साथ ही बानखाना निवासी वसीम के घर पर 82 के नोटिस (कुर्की पूर्व की कार्रवाई) चस्पा कर दिए। इसके साथ ही दो अन्य आरोपी बानखाना निवासी आरिफ और भोजीपुरा के पिपरिया निवासी अबरार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

पुलिस ने मौलाना को दिखाया फरार

कुछ दिनों पहले दिल्ली से लौटे मौलाना ने बरेली स्थित आवास पर प्रेसवार्ता की थी। कहा जा रहा है कि मौलाना अब भी बरेली में ही हैं, लेकिन पुलिस ने उन्हें फरार बताकर घर के दरवाजे पर नोटिस चस्पा कर दिया है। आमतौर पर पुलिस ऐसी कार्रवाई नगाड़ा बजाकर व जोरशोर से प्रचार करके करती है, लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं किया गया।